कांग्रेस नेता ने लांघी गुण्डागर्दी की तमाम सीमाएं, पुलिस प्रशासन बना मूक दर्शक: भाजपा

0
195
Congress MLA Bamber Thakur

शिमला- हिमाचल प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती पूर्व मंत्री रिखी राम कौण्डल तथा भाजपा प्रदेश प्रवक्ता महेन्द्र धर्माणी ने बिलासपुर विधयाक बम्बर ठाकुर के बड़े पुत्र द्वारा अपने साथियों सहित मिलकर तीन युवकों पर जानलेवा हमला करने की बात पर कहा कि प्रदेश सरकार आतंक के सहारे शासन कर रही है। कांग्रेस के नेताओं ने प्रदेश में गुण्डागर्दी की तमाम सीमाएं लांघ दी है। पुलिस प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है और अपराधियों के खिलाफ कोई कार्यवाही करने के वजाए उन्हें संरक्षण प्रदान कर रहा है। जिससे आम आदमी भयभीत और आतंकित है और असुरक्षा के साथ जी रहा है।

भाजपा नेताओं ने कहा कि आए दिन हो रही अपराधिक घटनाओं में सत्ताधारियों की संलिप्तता स्पष्ट नजर आती है वावजूद उन पर कोई कार्यवाही किए जाने के वजाए निर्दाेशों को प्रताड़ित किया जा रहा है। बिलासपुर में घटित अपराधिक वारदात में विधायक पुत्र की संलिप्तता के बारे में सब जानते हैं परन्तु कोई कानूनी कार्यवाही के वजाए विधायक पुत्र को बचाने की पुरजोर कोशिशें हो रही है इससे पूर्व भी विधायक द्वारा सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने के प्रर्याप्त सबूत हैं फिर भी उन पर कोई कार्यवाही न होना इस बात का प्रत्यक्ष उदाहरण है कि अब प्रदेश में कानून नहीं बल्कि जंगल राज चल रहा है।

पढ़िए क्या है ये है मामला

बिलासपुर शहर के डियारा सैक्टर में वीरवार देर रात को सब्जी का काम करने वाले 3 युवक एक कार में बैठकर जा रहे थे कि हनुमान मंदिर के पास पहुंचने पर विधायक बंबर ठाकुर के बड़े बेटे ने अपने साथियों सहित कार को रोककर इन पर तेजधार हथियार व डंडों से हमला कर दिया। मामले की सूचना मिलते ही स्थानीय लोग मौके पर पहुंच गए तथा पुलिस प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी।

सूचना मिलते ही सिटी चौकी प्रभारी भी मौके पर पहुंचे तथा मामले को संभालने की कोशिश की। इसके बाद थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। बताया जा रहा है कि भीड़ व अंधेरे का लाभ उठाते हुए हमलावर मौके से फरार हो गए। इस दौरान बंबर ठाकुर भी मौके पर पहुंचे तथा अपने बेटे को गाड़ी में बैठाकर ले गए। नेता की इस हरकत पर स्थानीय जनता भड़क गई तथा रात को 2 बजे तक लोग सिटी चौकी के पास डटे रहे। मामले के तूल पकडऩे पर हरकत में आई पुलिस ने 6 हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपियों को मिली जमानत, बिना सुचना पुलिस ने गुस्साई भीड़ पर बरसाए डंडे

3 सब्जी विक्रेताओं पर किए गए हमले के आरोपियों को जमानत मिल जाने के बाद डियारा सैक्टर में माहौल बेहद तनावपूर्ण हो गया। आरोपी अनिल उर्फ पिंटू के डियारा सैक्टर स्थित उसके क्वार्टर में पहुंचने की सूचना मिलते ही स्थानीय लोग उसके क्वार्टर के बाहर सैंकड़ों की संख्या में एकत्रित हो गए तथा उसे बाहर निकाल कर किसी दूसरे स्थान पर भेजने की मांग करने लगे। देर रात हुई घटना में गुस्साई भीड़ और पुलिस में गहमागहमी हो गई, जिसके चलते पत्थरबाजी भी हुई।

मारपीट के आरोपियों को पुलिस पकड़कर थाने ले गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंचा था तथा मौके पर पहुंचते ही पुलिस ने बिना किसी सूचना के डंडे बरसाना शुरू कर दिया। पुलिस द्वारा की गई इस डंडेबाजी का शिकार हुई पीड़ित ने बताया कि पुलिस आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही है। डियारा सैक्टर पूरी तरह पुलिस छावनी में तबदील हो गया था तथा जिला प्रशासन ने साथ लगते पुलिस थाना बरमाणा से भी पुलिस बल मौके पर बुला लिया था।

पढ़ें- अवैध सड़क निर्माण के खिलाफ अपने आवाज उठाने वाले डीएफओ पर हिमाचल के कांग्रेस विधायक ने गुंडों द्वारा करवाया हमला, न ही कोई एफ आई और न ही कोई शिकायत दर्ज

भााजपा का यह कहा कि पिछले 3 वर्षों में हिमाचल प्रदेश में अपराधिक घटनाओं में तीन गुणा ज्यादा बृद्धि हुई है। महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराधिक घटनाओं में वेतहाशा बृद्धि के साथ अब प्रदेश आंतकियों की शरण स्थली भी बनता जा रहा है। कुल्लू में आईएसआईएस का संदिग्ध उग्रवादी व जतोग कैंट में देश विरोधी नारों ने सिद्ध कर दिया है कि प्रदेश सरकार कानून व्यवस्था की स्थिति सुधार पाने में नाकाम साबित हुई है।

विदेशी पर्यकटों के साथ बलात्कार व प्रदेश भर में महिलाओं द्वारा आत्महत्या की घटनाओं में बृद्धि प्रदेश के बिगड़ते हालात के बारे में बता रहे हैं। सरकार की इस नाकामी से हिमाचल प्रदेश की छवि पर गहरा आघात पहुॅचा है। देवभूमि की छवि अपराध भूमि की वन रही है। यह कांग्रेस सरकार की सबसे बड़ी नाकामी है।

भाजपा ने कहा कि बिलासपुर के सैक्टर 11 में हुए घटनाको करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कारवाई की जाए और मुख्यमंत्री को तुरन्त प्रभाव से विधायक से त्यागपत्र लेना चाहिए ताकि लोगों को अपने द्वारा चुने गए प्रतिनिधि को उनकी सुरक्षा करने के वजाए उन्हें आतंकित करने का दण्ड मिल सके। भाजपा नेताओं ने कहा कि विधायक द्वारा इससे पहले भी डीएफओ और एक डाक्टर के साथ दुरव्याहार किया जा चुका है पर सरकार विधायक पर कार्यवाई करने के वजाए सरकार मूकदर्शक बने बैठी है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS