जब हिमाचल के विशेष राज्य व औद्योगिक पैकेज को छीना गया तब चुप क्यों थे आनन्द शर्मा ?: धूमल

0
313
Himachal Congress vs Himachal BJP

भाजपा का मनना है कि भारतीय सेना ने पहली बार अतूल्य पराक्रम की गाथा लिखते हुए सीमा पार करके आतंकवादियों सहित उनके ठिकानों को ध्वस्त करने का श्रेय प्रधानमंत्री जाता है!

शिमला- हिमाचल प्रदेश भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष प्रो0 प्रेम कुमार धूमल ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री आनन्द शर्मा के ब्यान को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के खिलाफ दिए गए ब्यान उस स्तर के नहीं हैं जिसकी अपेक्षा उनसे की जाती है।

भाजपा ने कहा कि पूर्व यूपीए सरकार के दौरान प्रदेश से दो मंत्री होने के बावजूद पार्टी हित के लिए प्रदेश हित की बली दी जाती रही थी। केन्द्रीय मंत्रीमण्डल का हिस्सा होते हुए कैबिनैट बैठकों में जब प्रदेश के विशेष राज्य व औद्योगिक पैकेज को छीना गया तब आनन्द शर्मा क्यों चुप थे? उन 10 वर्षों में प्रदेश को विशेष आर्थिक सहायता के नाम पर एक फूटी कौड़ी भी नहीं मिली तब कांग्रेस नेताओं का प्रदेश प्रेम कहां गायब हो गया था।

फिर से सर्जिकल स्ट्राइक का आलाप रटते हुए प्रदेश भाजपा ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के ब्यान देश की जनता में हॅंसी का विषय बन गए हैं। 1971 के युद्ध के दौरान जब भारतीय सेना ने असीम पराक्रम की गाथा लिखते हुए 90 हजार से अधिक पाक सैनिकों को बंदी बनाया था तो उसका श्रेय भारतीय सेना के साथ-साथ तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी को विपक्षी नेताओं सहित देश की जनता ने दिया था। मई 1998 में परवाणु विस्फोटों के पश्चात जहां वैज्ञानिकों को देश की जनता ने सिर माथे पर बैठाया वहीं इस साहसिक निर्णय को लेने के लिए अटल बिहारी वाजपेयी को भी श्रेय दिया। कारगिल युद्ध में पाकिस्तान को मुॅह तोड़ जबाव देने के लिए भारतीय सेना के पराक्रम की सर्वत्र सराहना हुई तो अटल बिहारी वाजपेयी की नेतृत्व क्षमता को भी देश की जनता ने श्रेय दिया।

भाजपा का मनना है कि भारतीय सेना ने पहली बार अतूल्य पराक्रम की गाथा लिखते हुए सीमा पार करके आतंकवादियों सहित उनके ठिकानों को ध्वस्त करने का श्रेय प्रधानमंत्री जाता है, परन्तु कांग्रेस नेता भारतीय सेना के पराक्रम पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करने से भी बाज नहीं आ रहे हैं।

भाजपा के यह भी कहना है कि केन्द्रीय करों में हिमाचल का हिस्सा 32% से 42%, 14वें वित्तआयोग में 234% वृद्धि, आधारभूत संरचनाओं के विकास के लिए 61 राष्ट्रीय उच्च मार्गों की स्वीकृति, एम्स, हाईड्रो इंजीनियरिंग काॅलेज, आईआईएमएस जैसे संस्थान आज कांग्रेसियों को नज़र नहीं आ रहे हैं।

मात्र ढाई वर्षों में प्रदेश में पूर्व की तुलना में अरबों रुपए का फायदा केन्द्र की मोदी सरकार ने पहुॅचाया है। उसका आभार व्यक्त करने के बजाए, प्रधानमंत्री के खिलाफ निराधार टिप्पणियां दुर्भाग्यपूर्ण और राजनीति में सर्कीण सोच का परिचायक है और कांग्रेसी नेताओं को इस तरह के स्तरहीन टिप्पणियों से राजनीति का स्तर नीचा नहीं करना चाहिए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS