सीमा बनी हिमाचल की पहली महिला बस चालक, सभी ड्राइविंग टेस्ट किये पास, 1 मई से देंगी सेवाएं

2
13651
seema thakur first hrtc female driver

शिमला- हिमाचल की जोखिम भरी तंग और सर्पीली सड़कों पर अच्छे से अच्छा ड्राइवर भी एक बार गाड़ी चलाने से पहले जरूर सोचेगा। लेकिन, हिमाचल की एक बेटी जल्द ही इन्हीं खतरनाक सड़कों पर सरकारी बस चलाती नजर आएंगी जिसके लिए उन्होंने सारे ड्राइविंग टेस्ट भी पास कर लिए हैं।

हिमाचल की बेटी सीमा ठाकुर ने लीक से हटकर यह फैसला लिया है और पुरुष वर्चस्व वाले काम में महिलाओं का झंडा गाड़ने में सफलता हासिल की है। सीमा ठाकुर हिमाचल प्रदेश की पहली ऐसी महिला चालक होंगी, जो सरकारी बस चलाती नजर आएंगी।

पहली मई से सीमा ठाकुर सरकारी बस का स्टेयरिंग संभालेंगी। सीमा के पास हैवी व्हिकल लाइसेंस है और उसने ड्राइविंग टेस्ट के दौरान 52 सीटर बस को सफलता से चलाकर अपनी काबीलियत साबित की है। इससे पहले 13 मार्च से एक महीने की ट्रेनिंग सफलता से पूरी कर सीमा ने खुद को हर मोर्चे पर अव्वल साबित किया है।

सीमा की लगन और हिम्मत को हिमाचल पथ परिवहन निगम प्रबंधन भी सलाम कर रहा है। ये एक बेटी के हौसले और लगन की जीत कही जाएगी। सीमा के इस प्रेरक उदाहरण से प्रदेश की अन्य बेटियों का भी हौसला खुलेगा और उन्हें अहसास होगा कि पुरुष वर्चस्व वाले कार्यों में भी महिलाएं अपनी दक्षता साबित कर सकती हैं।

पिता का सपना किया पूरा

सीमा ठाकुर के पिता बलीराम ठाकुर भी हिमाचल परिवहन निगम में बस चालक रहे हैं। दुर्भाग्यवश उनका निधन हो गया। पिता का सपना था कि सीमा भी कुछ अलग करके दिखाए। सीमा ने फैसला किया कि वो भी सरकारी बस चलाएगी और बेटियों को अपनी राह खुद बनाने के लिए प्रेरित करेंगी। सोलन जिला के अर्की की रहने वाली सीमा ठाकुर ने आज से छह साल पहले हैवी लाइसेंस धारक होने की पात्रता अर्जित की थी। उसके बाद सीमा ने हिमाचल पथ परिवहन निगम में चालक बनने के लिए आवेदन किया। मंडी में इसी साल 13 मार्च से एक महीने की ट्रेनिंग ली।

टेस्ट के दौरान सीमा ने 52 सीटर बस को सफलता से चलाकर अधिकारियों द्वारा उस पर जताए गए विश्वास को साबित किया। सीमा ठाकुर के अनुसार उसे आरंभ से ही कुछ हटकर कर दिखाने की ललक थी। यही कारण था कि उसने जिद करके अपने पिता से ड्राइविंग सीखी। सीमा ठाकुर अपने नए सफर के लिए बेहद उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि बेटियां किसी से कम नहीं हैं, उन्हें बस मौके मुहैया करवाने की जरूरत है।

50 महिला चालकों की भर्ती करेगा एचआरटीसी

हिमाचल पथ परिवहन निगम जल्द ही पचास महिला चालकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करेगा। परिवहन मंत्री जीएस बाली का कहना है कि नारी शक्ति व महिला सशक्तिकरण की दिशा में यह प्रयास अनुपम होगा। इससे न केवल बेटियों को अलग हटकर कुछ कर दिखाने का अवसर मिलेगा, बल्कि उन्हें अपने पैरों पर खड़े होने के गौरव का अहसास भी होगा।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

2 COMMENTS

Comments are closed.