आय से अधिक संपत्ति मामले में सीबीआई ने नपवाई वीरभद्र के सेब बगीचे की जमीन, फलदार पेड़ों की गिनती

0
286
cbi raid on virbhadra apple orchard

पैदावार जानने के लिए टीम के साथ रहे जम्मू, हिमाचल के बागवानी विशेषज्ञ, डमराली बगीचे की नपाई कर फलदार पेड़ों की गिनती तक कराई, स्थानीय अधिकारियों और पुलिस को भनक तक नहीं लग पाई

शिमला-आय से अधिक संपत्ति मामले में शुक्रवार को दिल्ली से आई सीबीआई टीम ने नायब तहसीलदार और पटवारी की मौजूदगी में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के डमराली स्थित सेब बगीचे की पैमाइश कराई। बगीचे की नपाई कर फलदार पेड़ों की गिनती भी की गई है।

जम्मू, सोलन से डॉ. वाईएस परमार बागवानी एवं वानिकी विश्वविद्यालय और हिमाचल बागवानी विभाग के विशेषज्ञों को भी सीबीआई टीम ने मौके पर बुलाया था ताकि पता लग सके कि इस बगीचे में वाकई उतना सेब पैदा होता है, जितना दर्शाया गया है या नहीं। सीबीआई ने इस पूरी कार्रवाई को हर तरह से गोपनीय रखा था। स्थानीय प्रशासन और पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगने दी गई।

सूत्र बताते हैं कि सीबीआई बगीचे की नपाई और पेड़ों की गिनती करके यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या इस बगीचे से करोड़ों में आय हो सकती है। सूत्र बताते हैं कि सीबीआई वीरभद्र के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटाने में लगी है। ताकि मामले को ठोस प्रमाण के साथ कोर्ट में रखा जा सके।

मुख्यमंत्री का डमराली सेब बगीचा चर्चित रहा है। यही वह बगीचा है, जिसमें सेब की जबरदस्त पैदावार करके आय को दर्शाया गया है। इसी बगीचे से देश की मंडियों में जिन ट्रकों में सेब लोड करके भेजा गया था, जांच के बाद उनके नंबर स्कूटर के पाए गए थे। सीबीआई अब जांच केर रही है कि क्या डमराली के बगीचे से इतनी रकम जुटाई जा सकती है या फिर इस आय का स्रोत कुछ और था?

सीएम के 13 ठिकानों पर एक साथ पड़े थे छापे-

26 सितंबर 2015 को मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से संबंधित 13 ठिकानों पर सीबीआई के एक साथ छापे पड़े थे। इनमें उनके शिमला स्थित निवास हाली लॉज, रामपुर स्थित पुश्तैनी महल के अलावा सोलन के परवाणू और नई दिल्ली के कुछ ठिकाने शामिल थे। इस छापामारी के दिन सीएम वीरभद्र सिंह की बेटी की शादी भी चल रही थी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS