हादसे से पूर्व जागे सरकार और विभाग, हादसा होने के बाद नहीं

0
352
himachal-tragedy

himachal-tragedy

एंट्री बैरीयरों/पर्यटक सूचना केन्द्रों/टैक्सी स्टैंडों व पुलिस सहायता केन्द्रो के माध्यम से समय समय पर पर्यटको को बांटे जाये –सुरक्षा टिप्स
पहाड़ी इलाके में ड्राईविंग कैसे की जाये (वाहन धीरे चलाएं ) /नदी -नालों में न उतारा जाये –कभी भी पानी का तेज बहाव आपको बहा कर ले जा सकता है /ऊंची -ऊंची चट्टानों के ऊपर चढ़ कर फोटो न खिंचवाएँ –इत्यादि इत्यादि

समिति मरने वाले छात्रों के प्रति गहरा शोक प्रकट करती है और उनके परिवार जनो के प्रति गहरी संवेदनाए !

विकास समिति टूटू ने प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से मांग की है की थलौट के पास ब्यास नदी में पिछले दिनो 25 बच्चों के डूबने के दिल दहलाने वाले मंजर को देखते हुये भविष्य में ऐसे हादसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाएँ जाएँ ! समिति अध्यक्ष नागेंद्र गुप्ता ने कहा की दिल दहलाने वाली वीडियो देखकर ऐसा लगता है कि सड़क किनारे यह स्थल होने पर और किसी प्रकार के सुरक्षा कवच इस स्थान पर न होने के कारण पर्यटक धोखे में आ गए और उन्हे अपनी जान से हाथ धोना पड़ा ! यह प्रशासन की लापरवाही के साथ-साथ मानवीय भूल भी है जिसे भविष्य में दौहराया ना जाये ! उन्होने कहा कि पूरे वर्ष हिमाचल घूमने हजारों पर्यटक आते है और कई राफ्टिंग के डूबने से कई रस्सी जैसे खेलों व कई फोटो खींचने-खिंचवाने के चक्कर में पहाड़ी किनारे या दरिया किनारे अपनी जान खो बैठते हैं जिससे देवभूमि पर भी खूनी होने का दाग लग रहा है !

गुप्ता ने कहा कि हमारी सरकार और विभागों की बहुत कमियाँ हैं जिन्हे जनहित में सवारने की काफी जरूरत है ! उन्होने कहा कि हम हादसा होने के बाद जागते हैं जबकि हादसा होने से पहले हमे सुरक्षा कदम उठाने चाहिए !

नागेंद्र गुप्ता ने कहा कि वह व उनकी समिति पिछले आठ -दस वर्षों से लगातार सड़क सुरक्षा की दृष्टी से प्रदेश सरकार और पी॰डबल्यू॰डी॰विभाग को सुझाव देते आ रहे है परंतु यहाँ भी अकसर देखा गया है कि संबन्धित विभाग उन डिफ़ेक्टों को ठीक करने के लिए तब जागता है जब कोई हादसा उस बताए गए स्थान पर हो जाता है !

समिति अध्यक्ष गुप्ता ने कहा कि हमे नदी -नालों के किनारे या टूरिष्ट स्पाट्स के किनारे ऐसे ब्लैक स्पाटों को तलाश कर जहां पर्यटक आसानी से उतर जाता है उन्हे तुरंत सुरक्षित करना चाहिए जहां सुन्दर मनमोहक स्थल देखकर पर्यटकों का मन फोटो खींचने या मनमोहक छटाओं का आनंद लेने के लिए आतुर हो जाता है और धोके में आ जाते हैं — जरूरी नहीं उन्हे हर समय गाईड करने वाला मौके पर मौजूद हो !

उन्होने कहा कि पानी के तेज बहाव में हूटर और सायरन या सीटी की आवाज नहीं सुनाई देती है और प्रदेश सरकार का जाली लगा कर ऐसे स्पाट्स को सुरक्षित करना जनहित में है ! गुप्ता ने कहा कि प्राय देखा गया है कि वन विभाग सड़क किनारे जहां आवश्यकता नहीं बेफिजूल में लोहे की ऊंची -ऊंची जाली लगा कर सरकारी धन का दुरुपयोग करता है जिससे लोक निर्माण विभाग को भी अपनी ऐक्वायर्ड विड्थ होने पर भी सड़क चौड़ी करने में समस्या आती है ,वन विभाग को चाहये की ऐसे स्थलों को प्राथमिकता के आधार पर प्रोटैक्ट करे !

समिति मरने वाले छात्रों के प्रति गहरा शोक प्रकट करती है और उनके परिवार जनो के प्रति गहरी संवेदनाए !

नागेन्द्र गुप्ता

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS