एक दूसरे के सिर थोप देते हैं रख-रखाव की जिम्मेवारी (निगम और बिजली बोर्ड )

0
302
lower-tutu

lower-tutu
​​

बिजली बोर्ड का कहना निगम स्ट्रीट लाइटों के उचित रखरखाव के लिए धन उपलब्ध नहीं करवाता है जिस कारण बल्ब व् अन्य सामग्री खरीदने व् बदलने में देरी होती है!

टूटू चौक से लोअर टूटू को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग पिछले कई दिनों से अँधेरे में हैं जहां से रोजाना शाम के समय सैंकड़ों राहगीर गुजरते हैं यह कहना है विकास समिति टूटू अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता का ! समिति अध्यक्ष गुप्ता ने कहा की तीन वर्ष पहले इस मार्ग की गहरी अंधेरी गली में बहुत जद्दोजहद करके मुश्किल से नगर -निगम से एक स्ट्रीट लाईट लगवाई थी जो अकसर खराब रहती है जिस कारण इस गली में आज भी अन्धेरा है ! नागेन्द्र गुप्ता ने कहा की उन्होंने अक्टूबर -2010 को एई समाधान के शिकायत पत्र संख्या MCSML/200933 से नगर निगम शिमला से जनहित में विजय निवास टूटू के पास एक लाईट लगाने की मांग की थी जिसका एस्टीमेट 29100 रूपये का बिजली बोर्ड ने नगर निगम को 13 .1 .2011 को स्वीकृति के लिए भेज दिया था और ई समाधान संख्या MCSML/2010191 से निगम ने समिति को इस बारे सूचित किया था की जल्द ही धन उपलब्ध करवाया जाएगा परन्तु नगर निगम शिमला ने एक पिछले चार वर्षों में इस गली में स्ट्रीट लाईट लगाने की जहमत न उठाई !

street-light-tutu

गुप्ता ने कहा की टूटू इलाके में 40 सोलर लाइटें लगाने के समय भी स्थानीय पार्षद निर्मल चौहान से मांग किये जाने पर भी इस लोअर टूटू के रास्ते में सोलर लाईट नहीं लगाई गई है ! उन्होंने स्थानीय पार्षद पर विकास कार्यों को प्राथमिकता पर पूरा न करवाने और इस क्षेत्र को नजरअंदाज करने का भी आरोप लगाया है !
नागेन्द्र गुप्ता ने कहा की सुनसान इलाका और अंधेरी गली होने पर इस रास्ते से गुजरने वाले खासकर महिला वर्ग सुरक्षित नहीं हैं !

समिति ने निगम महापौर और उप-महापौर से स्थानीय नागरिक होने के नाते इस गली में उचित स्ट्रीट लाइटें व्यवस्थित करने की मांग की है!
-नागेन्द्र गुप्ता

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS