हिमाचल प्रदेश में बदरों की संख्या कम करने में मददगार साबित होगी गोरखा रेजीमेंट

0
354
monkeys-in-shimla

monkeys-in-shimla

“राज्य में समय.समय पर विभिन्न छावनियों में गोरखा रेजीमेंट या नगा रेजीमेंट तैनात की जाती है तो बंदरों की संख्या घटने लगेगी जिसका कारण यह है कि जिस क्षेत्र से ये रेजीमेंट संबंधित हैं ए वहां के लजीज व्यंजनों में इन जानवरों का मांस भी शामिल है जो राज्य में बंदरों की संख्या को कम करने में मददगार साबित हो सकता है”

आवारा जंतुओं की समस्या पर विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश करते हुए पूर्व सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य मंत्री भाजपा विधायक ने कहा ए यदि राज्य में समय.समय पर विभिन्न छावनियों में गोरखा रेजीमेंट या नगा रेजीमेंट तैनात की जाती है तो बंदरों की संख्या घटने लगेगी। जिसका कारण यह है कि जिस क्षेत्र से ये रेजीमेंट संबंधित हैंए वहां के लजीज व्यंजनों में इन जानवरों का मांस भी शामिल है।

उन्होंने कहा कि इससे पहले भी ;पालमपुर के समीप होलता में एक रेजीमेंट तैनात की गई थी जो और वह वहां तीन साल रही तक उस स्थान पर रही और वहां बंदरों की संख्या काफी घट गई।

हिमाचल प्रदेश के पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक रवींद्र सिंह रवि ने बंदरों और अवारा कुत्तों से निबटने के लिए राज्य में समय.समय पर नगा और गोरखा रेजीमेंट तैनात करने जैसे असामान्य हल का सुझाव दिया।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS