मंहगाई से जनता की कमर तोड़ने वाली भाजपा मोदी की जनसभाओं पर कर रही करोड़ों खर्च: कांग्रेस

0
191
narendra modi rally in Himachal pradesh

प्रदेश में रेल लाईन का विस्तार और एम्स पिछली यू. पी. ए सरकार के वक्त रहे प्रधानमंत्री डा0 मनमोहन सिंह की सोच थी! शैल की इकाकी स्थापित करने के लिये भी पिछली यू. पी. ए सरकार का योगदान रहा है।

शिमला: घरेलू सिलेंडर में की गई 93 रूपये की बढोतरी, प्याज व टमाटर के दामों में 70 रूपये ज्यादा के उछाल ने पूरे प्रदेश तथा देश में महिलाओं का रसोई का खर्च चलाना मुश्किल कर दिया है।

प्रदेश में घरेलू सिलेंडर अब 779 रूपये में मिलेगा। इसमें होम डिलीवरी जैसे खर्च को भी जोड दिया जाए तो यह साढे 800 रूपये के आस- पास बैठता है।

सबसिडी (सब्सिडी) के रूप में उनको 280.62 रूपये ही प्राप्त होंगे और प्रदेश में 2 लाख के करीब लोगों की सबसिडी 10 लाख से अधिक आय होंने के कारण वैसे ही बंद है।

पर फिर भी भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री की जनसभाओं में करोडो रूपये खर्च कर रही है। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल व शांता कुमार सहित प्रदेश के भाजपा नेता कि बजाजपा के ‘अच्छे दिन’की परिभाषा क्या है!

ये कहना है हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता संजय सिंह चौहान का। चौहान ने आज इन् मुद्दों पर भारतीय जनता पार्टी की एकलौती आशा की किरण ( नरेंद्र मोदी) के खिलाफ मोर्चा खोला। संजय ने सवाल किया कि भाजपा किस मुंह से वोट माँग रही है। उनका मानना है कि इस मंहगाई के कारण गृहिणियां केंद्र सरकार पर बुरी तरह बिफर सकती हैं।

चौहान ने कहा कि

आज प्रधानमंत्री ने 2014 में लोकसभा चुनाव के समय हिमाचल की जनता को जो सपने दिखाये थे उनके पूरा न कर पाने के लिए कोई पष्टिकरण नहीं दिया!

चौहान ने कहा कि मोदी आज भी हिमाचल में वही पुरानी बातें दोहरा रहे हैं जो वो पिछले साढे 3 साल से देश की जनता के सामने करते आ रहे हैं। जैसेकी हिमाचल प्रदेश में यू. पी. ए सरकार के समय में चार मैडिकल कालेज दिये गये, आई. आई एम दिया गया और भी कई कैंद्रीय संस्थान दिये गये।

चौहान ने कहा कि.

अगर देश में एम्स की बात की जाए तो वह पिछली यू. पी. ए सरकार के वक्त रहे प्रधानमंत्री डा0 मनमोहन सिंह की सोच थी जिन्होने पूरे देश में कई केंद्रीय संस्थान खोले जिसमें एम्स महत्वपूर्ण संस्थानों में से एक है।

चौहान ने दवा किया कि रेल लाईन का विस्तार हिमाचल प्रदेश में पूर्व यू. पी. ए सरकार के वक्त से शुरू हुआ था और शैल की इकाकी स्थापित करने में भी पिछली यू. पी. ए सरकार का योगदान रहा है।

चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री आज मंहगाई और बेरोज़गारी के बारे में हिमाचल की जनता के सामने सफाई नहीं दे पाए। रोजमरा की चिजों के भाव आसमान छू रहे हैं। अंतरराष्टीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत सबसे निचले स्तर पर है इसके बावजूद पेट्रोल,डीजल की कीमत देश में रिर्काड तोड उँच्चाई पर पहुँच गई है।

चौहान ने कहा कि जीएसटी (GST) की वजह से हिमाचल प्रदेश के 1.25 लाख दुकानदार व कारोबारी से परेशान है। 2014 में भाजपा सरकार ने मंडी में लोकसभा चुनाव के दौरान हिमाचल प्रदेश के लोगों के हित के लिए बहुत सारे लुहावने प्रलोभल दिये थे जिसमें सेब पर आयात शूल्क बढाने की बात की थी जो कि चुनावी शगुफे बनकर रह गये है ।

चौहान ने कहा की उन्हें पूरा विश्वाश है कि कांग्रेस पार्टी फिर से सत्ता में आएगी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें