Bajrang Dal Bharti Abhiyaan in Himachal Pradesh

विहिप का कहना है कि आज हिमाचल में हिन्दुओं को खतरा है और उन्हें एकजुट होने की आवश्यक्ता है क्योकि प्रदेश में धर्मान्तरण, गौ हत्या, गौ तस्करी, लव जिहाद, तथा संदिग्ध आंतकियों की हिमाचल में घुसपैठ में वृद्धि हो रही है।

शिमला- हिमाचल के शांत शहरों में अब जीन्स व टी शर्ट पहने वाली युवतियां, प्रेमी जोड़ों और वैलेंटाइन डे या कोई भी वेदेशी पर्व मानाने वाले युवाओं के लिए एक ख़ास खबर है।

बजरंग दल नें बीते शुक्रवार को चक्कर स्तिथ वश्व हिन्दू परिषद्(विहिप)के कार्यायल में अध्यक्ष अमन पुरी की अध्यक्षता में एर्क बैठक की थी। बैठक में बजरंग दल ने हिमाचल में भी पांव पसारने का मन बना लिया है।

19 नवम्बर से 5 दिसम्बर तक पूरे प्रांत में बजरंग दल भर्ती अभियान चलाकर आने वाले समय में हिमाचल के युवाओं को दल में शामिल करेगा। अपने हिमाचल में भी सभी संगठनात्मक जिलों में 51000 युवाओं को बजरंग दल से जोड़ने का लक्ष्य है।

अकेले शिमला महानगर में बजरंगदल पांच हजार युवाओं को संगठन में शामिल करेगा जिसके लिए स्कूल तथा कालेज के विद्यार्थियों को अधिक से अधिक संख्या में निशाना बनाया जायेगा।

विहिप का कहना है कि आज हिमाचल में हिन्दुओं को खतरा है और उन्हें एकजुट होने की आवश्यक्ता है क्योकि प्रदेश में धर्मान्तरण, गौ हत्या, गौ तस्करी, लव जिहाद, तथा संदिग्ध आंतकियों की हिमाचल में घुसपैठ आदि घटनाओं में वृद्धि हो रही है।

विहिप को ह भी लगता है कि युवाओं को इन सब से बचाना बहुर जरूरी है इसलिए बजरंग दल युवाओं को जागरूक करेगा तथा संस्कारी बनाएगा।

दल की मानें तो पाकिस्तान जिंदावाद, आईएसआईएस के समर्थन में नारों का लिखा जाना तथा कुल्लू से आई.एस.आई.एस. के ऐजेट का पकड़ा जाना एक बहुत बड़ा षड्यंत्र है।

बजरंग दल को यह भी लगता है कि वह 1984 से हिन्दू समाज में ‘सेवा सुरक्षा संस्कार’ को लेकर काम कर रहा है।

इस बैठक में विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत सह संगठन मंत्री नीरज दौनेरिया प्रांत समन्वय प्रमुख सुनील जस्वाल विशेष रूप से उपस्थित रहे। बैठक में बजरंग दल सयोंजक शुशील शर्मा, वनीत विशनोई, अमर सिंह वर्मा, आर.डी. शर्मा, कृष्ण कुमार, सुमन प्रमाणिक, भारतीय गौवंश संम्वर्धन परिषद् के प्रांत संयोजक राम ऋिषि भरद्वाज तथा बजरंग दल एवं विहिप के अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

इसके अलावा बैठक में अशोक सिंघल की पुण्य तिथि पर उनकों श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी गयी।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS