एचपीयू में सीईसी की दो दिवसीय राष्ट्र स्तरीय फिल्म प्रतियोगिता का आयोजन, दिखाई जायेंगी 23 फिल्मे

0
123
Consortium-for-education-communication-video-Competition-at-HPU

कार्यक्रम के आरम्भ में दो पूर्व में पुरस्कृत फिल्मे ‘लॉस्ट सिनेमा’ और ‘लंगूर मेला’ दिखाई गयी। इस प्रतियोगिता में कुल 10 श्रेणियों में 23 फिल्मे दिखाई जायेंगी. सबसे पहले ‘विलिमय राक्सवर्ग द फादर ऑफ़ इंडियन बॉटनी’ दिखाई गयी।

शिमला- विश्चविद्यालय अनुदान आयोग यूजीसी की संस्था शिक्षा संचार संकाय(सीईसी)(Consortium for educational communication) द्वारा आयोजित शैक्षणिक विडियो प्रतियोगिता का आयोजन आज हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित किया गया।

HP-University-Auditorium

कार्यक्रम का शुभारम्भ सभी अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती को पुष्पांजलि कर दीप प्रज्जवलन के साथ शुरू हुआ।

Himachal university Video Competition 2107

हिमाचल विश्चविद्यालय के जनसंचार और पत्रकारिता विभाग के सहयोग से आयोजित इस फिल्म प्रतियोगिता में 10 श्रेणियों में कुल 23 फिल्मे दिखाई जायेंगी। पत्रकारिता और जन संचार विभागाध्यक्ष डॉ विकास डोगरा ने बताया कि दो दिन चलने वाले इस कार्यक्रम का समापन राज्यपाल आचार्य देवव्रत द्वारा होगा। इस दौरान विभिन्न प्रतियोगिता में पुरस्कृत फिल्म निर्माताओं को राज्यपाल द्वारा सम्मानित भी किया जायेगा।

Himachal-University-Auditorium

पत्रकारिता विभाग के प्रोफेसर शशिकांत शर्मा ने डिजिटल लर्निग के खासियतों के बारे में सभी को बताया। प्रोफेसर शर्मा ने हिमाचल की उत्कृष्ट संस्कृति और डिजिटल लर्निंग प्रोगाम के लिए मौजूद सम्भावाओं का जिक्र किया और सीईसी के निदेशक को इससे अवगत करवाया।

HP-University-Journalism-Department

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि किस तरह से हिमाचल प्रदेश का स्थानीय प्रशासन डिजिटल लर्निग कार्यक्रम को लेकर उत्साहित है और अगली बार इस तरह के समस्त आयोजन को हर संभव प्रयास मदद देने का भी आश्वासन दिया है।

सीईसी के निदेशक प्रोफेसर राजवीर सिंह ने हिमाचल प्रदेश में इस तरह के अन्य कार्यक्रम चलाये जाने के प्रति अपनी रूचि भी जाहिर की। अपने संबोधन में सीईसी के निदेशक प्रोफेसर राजवीर सिंह ने डिजिटल लर्निंग के बारे में सरकार द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रमों के बारे में बताया।

Consortium-for-education-communication--Director-Prof.Rajbir-Singh
चित्र साभार: CEC UGC

प्रोफेसर सिंह ने कहा कि जैसे-जैसे समय बदल रहा है वैसे वैसे तकनिकी का संसार भी बदल रहा है। उन्होंने कहा कि आज शिक्षा का स्वरुप बड़ी-बड़ी इमारते और इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं है। आज की शिक्षा ब्रिक्स एंड मोर्टर(ईंट गारे) नही चिप्स एंड फाइबर( हार्डडिस्क और इन्टरनेट) से चलने वाली हैं।

Consortium-for-education-communication

उन्होंने यह भी कहा कि आज सीईसी ने देश के विद्वान् प्रोफेसर्स की मदद से देश में डिजिटल लर्निंग का संजाल स्थापित किया है। हिन्दुस्तान में पढ़ाया जाने वाला कोई भी ऐसा विषय नहीं है, जिसका विडियो अध्ययन सामग्री सीईसी ने नहीं बनाई हो।

प्रो सिंह ने हिमाचल प्रदेश विवि की डिजिटल लर्निग को बढाने के लिए भी डिजिटल लाइब्रेरी बनाने में सहयोग प्रदान करने की बात कही है। उन्होंने कहा यह ओपन टू आल यानी की सबके लिए उपलब्ध रहने वाला होगा। जहाँ से छात्र एक पेनड्राइव या हार्डडिस्क में सारा कंटेंट कॉपी कर उसका अध्ययन कर सकेंगे।

प्रदेश विवि के कुलपति प्रोफेसर राजेन्द्र सिंह चौहान ने अपने संबोधन में सीईसी को इस प्रतियोगिता के लिए विवि को चयन करने पर आभार जताया और सीईसी द्वारा विवि को डिजिटल लर्निंग के प्रक्रम स्थापित करने में हर तरह के सहयोग देने का आश्वाशन दिया।

HP-University-Vice-Chancellor--Prof-Rajinder-Singh-Chauhan

कुलपति ने अपने सम्भोदन में यह भी कहा कि इस समय हिमाचल में साक्षरता दर 87% है। 70 लाख की आबादी में प्रदेश में 16 हज़ार संस्थान है। 16 विश्वविद्यालय है, मेडिकल कॉलेज बीएड कॉलेज, 140 सरकारी कॉलेज है। कुलपति ने कहा कि प्रदेश शिक्षा में विकास कर रहा है। उन्होंने कहा कि हायर एजुकेशन में पुरे देश में हिमाचल एक ऐसा प्रदेश है जहाँ छात्राओं की एनरोलमेंट सबसे अधिक है।

इसके साथ ही उन्होंने समस्त पत्रकारिता विभाग को सीईसी के साथ इस कार्यक्रम को आयोजित करवाने के लिए साधुवाद दिया।

जनसंचार और पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ विकास डोगरा ने अंत में सभी अतिथियों और कार्यक्रम में अपना सहयोग देने वाले सभी लोगों का आभार जताया।

Dr-Vikas-Dogra-HP-University

इसके साथ ही उन्होंने सीईसी के साथ आगे भी किसी कार्यक्रम को आयोजित करने का आश्वासन दिलाया।

इस दौरान हिमाचल प्रदेश विवि के कुलपति प्रोफेसर राजेन्द्र सिंह चौहान, कुलसचिव प्रोफेसर एसएस नारटा,सीईसी के निदेशक प्रोफेसर राजवीर सिंह, जनसंचार और पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष डॉ विकास डोगरा, प्रोफेसर शशिकांत शर्मा और विवि के अन्य प्राध्यापक व छात्र उपस्थित रहे।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS