पीएचसी टुटू में पिछले 2 महीनों से आने को तैयार नहीं नवनियुक्त डाॅक्टर: विकास समिति टुटू

0
167
Primary-Health-Center-Totu-Shimla

पीएचसी टुटू में आने को तैयार नहीं नव -नियुक्त डाक्टर,शहरी -ग्रामीण की लड़ाई में पिस रहे हैं मरीज, ग्रामीण एरिया में अपनी सेवा नहीं देना चाहते हैं नव-नियुक्त डाक्टर, शहरी इलाकों में डाक्टर को पीजी करने की प्राथमिकता नहीं मिलती है

पिछले दो महीने से डाक्टर सौरभ शर्मा का पीएचसी टुटू से तबादला होने के बाद पीएचसी में स्थाई रूप से कोई भी डाक्टर नहीं है जिस कारण रोजाना सैंकड़ों मरीजों को इलाज करवाने में परेशानी हो रही है! यह बात संयुक्त रूप से विकास समिति के अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ,महासचिव ठाकुर सिंह वर्मा व मीडिया प्रभारी सुरेन्द्र कुमार ने प्रैस को जारी एक ब्यान में कही!

समिति अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ने कहा कि समिति द्वारा मांग करने पर स्थाई रूप से नियुक्ति न होने तक मुख्य चिकित्सा अधिकारी शिमला ने अस्थाई रूप से डाक्टर की तैनाती की थी लेकिन अब स्थाई नियुक्ति होने पर भी समस्या का हल नहीं निकल पाया है!

समिति ने यह भी कहा कि पिछले दिनों प्रदेश सरकार द्वारा स्थाई रूप से डाक्टरों की नियुक्ति की है और पीएचसी टुटू में भी स्थाई रूप से एक महिला डाक्टर की तैनाती की गयी है, लेकिन उस महिला डाक्टर ने अभी तक ज्वायन नहीं किया है! गुप्ता ने कहा की जानकारी प्राप्त करने पर पता चला है कि उक्त महिला डाक्टर शहरी इलाकों (Urban Area) में अपनी सेवाएँ नहीं देना चाहती है और न ही अभी तक नव-नियुक्त डाक्टर ने विभाग को उपस्थिति की सूचना दी है !

समिति ने कहा कि उन्हें पता चला है कि हिमाचल में ग्रामीण क्षेत्र की दूर-दराज के स्वास्थ्य केंद्रों में डाक्टरों के न जाने को लेकर उच्च न्यायालय ने आदेश पारित किये हैं कि ग्रामीण इलाकों (rural area) में अपनी सेवाएं देने वाले डाक्टरों को पीजी करने के लिए प्राथमिकता दी जाए जिस कारण वर्तमान समय में नव-नियुक्त चिकित्सक शहरी इलाकों में अपनी सेवायें देने में आनाकानी कर रहे हैं!

उन्होंने कहा की उच्च न्यायालय के इस फैसले के कारण शहरी इलाकों के स्वास्थ्य केंद्रों में कोई नव-नियुक्त डाक्टर आने को तैयार नहीं हैं जिस कारण आम नागरिक को छोटी-छोटी बीमारी का इलाज करवाने के लिए जगह-2 निजी क्लिनिकों में या बड़े अस्पतालों में धक्के खाने पड़ रहे हैं!

विकास समिति टुटू जनहित में प्रदेश सरकार से मांग कर कहा कि टुटू में स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ किया जाये व डेंटल चेयर (dental chair) स्थापित की जाये ! और एक्सरे के लिए स्थाई रूप से रेडियोग्राफर की नियुक्ति भी की जाये!

ज्ञात रहे की पिछले दिनों लगभग 660 नए डाक्टरों की नियुक्ति के बावजूद भी शिमला ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र की सड़क साथ लगती इस पीएचसी टुटू में एक भी डाक्टर नहीं है जबकि दो चिकित्सकों की तैनाती की घोषणा स्वंय मुख्यमंत्री ने 30 अगस्त 2014 को उदघाटन के समय में की थी ! डाक्टर की तैनाती न होने के कारण पीएचसी टुटू में आपातकाल, प्राथमिक सेवायें प्रभावित हो रही हैं जहाँ रोजाना औसतन 70 -80 मरीज अपने इलाज को आते हैं!

विकास समिति टुटू के अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ,महासचिव ठाकुर सिंह वर्मा ,मीडिया प्रभारी सुरेंद्र कुमार,कोषाध्यक्ष ओम प्रकाश शर्मा ,संगठन सचिव राजेश गोयल सदस्य नरेश शर्मा व अन्य पदाधिकारियों ने भी प्रदेश सरकार से जल्द से जल्द डाक्टर की तैनाती की मांग की है ताकि टुटू व उसके आसपास के क्षेत्र की जनता को परेशानी न हो!

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS