टूटू स्कूल – साईंस ब्लाक में नहीं है बिजली – पानी – छात्रों को हो रही है परेशानी

0
372
no electricity-tutu-school

सीनियर सकेंडरी स्कूल टुटू -लैबोटरी ब्लाक में नहीं है बिजली– पानी –छात्रों को हो रही है परेशानी
चार मंजिला भवन –पी.डबल्यू.डी.ने किया तैयार –
भवन का नक्शा स्वीकृत न होने के कारण -बिजली पानी का कनेक्शन नहीं मिल रहा है
निगम का ब्यान –पहले नक्शा पास करवाओ –फिर एन.ओ.सी. ले जाओ
कौन है जिम्मेदार –पी.डबल्यू.डी. या शिक्षा विभाग –?
कैसे करें प्रयोगशालाओं का इस्तेमाल –एक बड़ा सवाल

no electricity-tutu-school
​​
वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला टुटू का साईंस ब्लाक में पिछले दो वर्षों से बिजली -पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं प्रदान नहीं की गई हैं जिसके कारण साईंस क्लास के छात्रों को प्रयोगशालाओं में उपकरण इस्तेमाल करने में अनेकों प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ! विकास समिति टुटू के अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ने यह मामला स्थानीय विधायक व् प्रदेश के मुख्य मंत्री वीरभद्र सिंह के ध्यान में एक पत्र के माध्यम से लाई है ! गुप्ता ने कहा की उनके संज्ञान में स्कूली बच्चों के अभिवावकों ने लाया है की स्कूल में बच्चों को प्रयोगशाला में परीक्षण करने में बिना बिजली व् पानी के बहुत परेशानी आ रही हैं जिस कारण वह पढ़ाई में अन्य स्कूलों के छात्रों की तुलना में पिछड़ रहे हैं ! वहीं छात्रों का कहना है की उन्हें प्रयोगशाला में परीक्षण करने के लिए परिसर में दूर से पानी ढोना पड़ता है या उपकरण इधर -उधर शिफ्ट करने पड़ते हैं जिस कारण उनका ज्यादा समय रख-रखाव के कार्यों में ही बर्बाद हो जाता है!

समिति अध्यक्ष ने कहा की 10+1 व् 10 +2 के बच्चों का भविष्य बनाने के यही दो वर्ष होते हैं और यदि ऐसे समय में उन्हें सरकारी स्कूलों में उचित प्रबंध न मिलेंगे तो आज के सपर्धा के युग में टुटू स्कूल व् अन्य सरकारी स्कूलों के बच्चे निजी स्कूलों के मुकाबले पिछड़ जाएंगे!
​​
उन्होंने कहा की इस साईंस ब्लाक के बहुमंजिला भवन को पी.डबल्यू.डी.जतोग सब -डिवीजन द्वारा समय पर निर्माण कार्य पूरा न करने के कारण पहले ही काफी लंबित हो चुका था और अब जब अधर में लटका निर्माण कार्य पूरा हुआ और विभाग ने इसे इस्तेमाल करने के लिए बिना बिजली -पानी के कनेक्शन के ही सौपं दिया तो स्कूल प्रबंधन को इसके उचित इस्तेमाल करने में काफी रुकावटे पैदा हो गई हैं!
समिति अध्यक्ष नागेन्द्र गुप्ता ने कहा की उनके ध्यान में आया है की इस बहुमंजिला भवन का नक्शा स्वीकृत नहीं करवाया गया है ! उन्होंने कहा की उनकी जानकारी के मुताबिक़ नक्शा बनाने व् निर्माण कार्य करवाने का जिम्मा जिस विभाग /एजेंसी का होता है उनकी ही जिम्मेवारी स्थानीय निकायों से नक्शा स्वीकृत करवाने की बनती है!

गुप्ता ने छात्रहित में प्रदेश के मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप कर जल्द इस भवन में बिजली -पानी मुहैया करवाने की मांग की है और गैर-जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की भी मांग की है ताकि भविष्य में सरकारी क्षेत्र में ऐसी चूक न हो!
Image:-www.finolexblog.com/Representational Image

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS