सहमति से संबंध की उम्र 16 से बढ़ाकर 18 साल करने पर सरकार ने जताई सहमति

0
251
images

images

“केंद्रीय कैबिनेट ने दी मंजूरी सहमति से संबंध की उम्र 16 की बजाय अब 18 साल रहेगी विपक्षी दलों के भारी विरोध के बाद सरकार ने फैंसले को लेकर कदम पीछे खींच लिए”

ऐंटि रेप बिल में सहमति से सेक्स की उम्र 18 से घटाकर 16 करने पर विपक्षी दलों के भारी विरोध के बाद सरकार ने कदम पीछे खींच लिए हैं। सहमति से सेक्स की उम्र 16 की बजाय अब 18 साल रहेगी। सोमवार को दो दौर की सर्वदलीय बैठक के बाद सरकार ने सहमति से सेक्स की उम्र 18 साल ही रखने का फैसला किया। इसके अलावा बिल में कई और बदलाव भी किए गए हैं। देर शाम केंद्रीय कैबिनेट ने इसे मंजूरी दे दी।

इसके साथ ही घूरना, महिला का पीछा करने और अश्लील इशारा करने के आरोपियों को अब आसानी से जमानत मिल जाएगी। इन बदलावों के साथ सरकार मंगलवार को अपराध कानून संशोधन विधेयक लोकसभा में पेश करेगी। महिलाओं के दुष्कर्म के मामले में कड़ी सजा वाले अध्यादेश के प्रावधानों को जारी रखने के लिए इस विधेयक पर इसी हफ्ते संसद की मुहर लगना जरूरी है।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ ने सोमवार रात कैबिनेट की मीटिंग के बाद कहा कि सरकार ने सहमति से सेक्स की उम्र 18 साल रखने की मांग मान ली है। उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठक में विपक्षी दल इसके पक्ष में थे। बिल संशोधनों के साथ मंगलवार यानी 19 मार्च को लोकसभा में 12 बजे पेश किया जाएगा।

सर्वदलीय बैठक में प्रमुख विपक्षी दल भाजपा समेत सरकार के कई सहयोगी दलों ने शादी की उम्र के मुकाबले सहमति से संबंध की उम्र कम किए जाने पर आपत्ति जताई। यही नहीं, पार्टियों की चिंता थी कि चुनावी साल में इस विधेयक के कड़े प्रावधानों का जमकर दुरुपयोग हो सकता है। खासकर पीछा करने और अश्लील हरकत करने जैसे आरोपों में पांच साल की सजा और जमानत नहीं होने जैसे प्रावधानों के दुरुपयोग की आशंका जताई गई। विभिन्न पार्टियों के एतराज को देखते हुए इन प्रावधानों के साथ विधेयक को संसद में पास कराना सरकार के लिए मुश्किल होता। जिसके चलते सरकार ने विधेयक में जरूरी बदलाव का फैसला किया है और सेक्स की उमर को 16 साल से बढ़ाकर 18 साल करने की मांग पर सहमति जताई है।
Photo:oxbridgeessays

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS