दिल्ली गैग रेप के आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में की आत्महत्या

0
306

“दिल्ली गैंगरेप के छह अभियुक्तों में से एक राम सिंह ने तिहाड़ जेल में सोमवार तड़के आत्महत्या कर ली राम सिंह ने तिहाड़ के जेल नंबर 3 की बैरक नंबर 5 में गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली”

16 दिसंबर को दिल्ली में हुए गैंगरेप कांड का मुख्य आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में सोमवार सुबह पांच बजे फांसी के फंदे से लटक कर खुदकुशी कर ली तिहाड़ के जेल नंबर 3 की बैरक नंबर 5 में उसने गले में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। सुबह 5 बजे जब जेल वॉर्डन बैरक में पहुंचा तो राम सिंह को फांसी पर लटका देखा। इसके बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। राम सिंह को फौरन जेल ऐंबुलेंस से दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल ले जाया गयाए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

वहीं फिलहाल इस मामले में जेल के प्रशासनिक अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है।

इस बीच मामले की गंभीरता को देखते हुए गृह मंत्रालय ने तिहाड़ जेल प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है। वहीं दिल्ली सरकार ने राम सिंह की खुदकुशी की मजिस्ट्रेड जांच के आदेश दे दिए हैं।

रेप केस के आरोपियों को जब तिहाड़ जेल में भेजा गया था तो केदियों ने इन आरोपियों को पीटा था जिससे पुलिस प्रशासन ने पांचों आरोपियों को एक अलग सेल में डाल दिया ताकि उनकी जान का खतरा न हो। वहीं दूसरी ओर इस सारे मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रही है जिसके चलते राम सिंह समते सभी आरोपियों की आज साकेत कोर्ट में पेशी होनी थी लेकिन जेल सूत्रों के अनुसार फास्ट ट्रैक कोर्ट में पेशी के लिए रूटीन मेडिकल चेकअप के लिए जब सुबह तकरीबन 5 बजे जेल वॉर्डन बैरक के पास पहुंचाए तो राम सिंह को लोहे की ग्रिल से लटका देखा।

जेल सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिकए राम सिंह ने शर्ट को फंदा बना कर आत्महत्या की है । जिस बैरक में राम सिंह को रखा गया था वहां उसके साथ दो अन्य कैदी भी मौजूद थे और आखिर राम सिंह के साथ रखे गए दो कैदियों को राम सिंह की आत्महत्या की जानकारी क्यों नहीं हुई इस बात को लेकर भी जांच की जा रही है और जेल के जिस वार्डन को खासतौर से उसकी निगरानी के लिए रात में रखा गया था उस पर भी सवाल उठ रहे हैं कि वो आखिर उस समय क्या कर रहा था ।
इस मामले में गृह मंत्रालय ने रिपोर्ट मांगी है।

माना जा रहा है कि डिप्रेशन के चलते राम सिंह ने ऐसा कदम उठाया है । सूत्रों की मानें तो राम सिंह ने आज तड़के करीब 2 बजे के बाद और सुबह 5 बजे से पहले खुदकुशी की है। हालांकि अभी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही यह साफ हो सकेगा।

वहीं आरोपी राम सिंह के वकील वी के आनंद का कहना है कि खुदकुशी जांच का विषय है और इसके पीछे किसी की साजिश हो सकती है। उनका कहना था कि राम सिंह डिप्रेशन में नहीं था। वो बिल्कुल खुश था। उसकी खुदकुशी जांच का विषय है। इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने इसे खुदकुशी के बजाय राजनीतिक हत्या करार दिया है।

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने तिहाड़ में राम सिंह की मौत पर रिपोर्टतलब की है। दिल्ली सरकार से 24 घंटे में रिपोर्ट देने को कहा गया है। राम सिंह के वॉर्ड की देखरेख के जिम्मेदार लोगों पर गाज गिर सकती है।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS