बर्फबारी ने ढाया सेब बागवानों पर कहर बगीचों मे हुआ भारी नुकसान

0
332
orchard covered with snow himachal

orchard covered with snow himachal

“बर्फबारी के कारण हुई क्षति से बागवान है परेशान बर्फबारी के कारण बागवानों के बगीचों में पेड़ को काफि नुकसान हुआ है , बगीचों में बर्फबारी के कारण बहुत से पेड़ो टूटे है जिससे बागवान है परेशान”

इस बार शिमला और अपर शिमला में हुए भारी हिमपात से जहां आम जनता का भारी परेशानी उठानी पड़ी है और आम जन जीवन प्रभावित हुआ है इसके साथ ही इस बर्फबारी के कारण सेब बागवानों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है और बर्फबारी के कारण बागवानों को भारी क्षति का सामना करना पड़ा है ।

इस बार की बर्फ सेब बागवानों के बगिचों पर कहर बनकर आई है जिससे कोटखाई तहसील के कलबोग , बाघी , उबादेश और क्यारी और अन्य कई पंचायतों के बगीचों में बर्फ ने कुछ इस कदर तबाही मचाई है कि बागवानों के 70 से 80 प्रतिशत सेब के पेड़ टूट गए है और कुछ पेड़ो को बहुत नुकसान हुआ है।

बागवानों की क्षति का अदेंशा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस पंचायत के एक बागवान के पास 400 पेटी का बगीचा है जो बर्फबारी के कारण हुए नुकसान के बाद केवल 50 पेटी का ही रह गया है। बर्फबारी के कारण सेब के बगीचों का ये नुकसान केवल एक पंचायत नहीं बल्कि उपरी शिमला के बहुत से क्षेत्रों के बागवानों की लिए चिंता का कारण बनी हुई है।

उबादेश इलाकें के कलबोग , रतनाड़ी आदी कई पंचायतों में भी बर्फबारी का कहर बागवानों पर बरपा है । बर्फबारी के कारण बगीचों में बड़े पेड़ो को भारी नुकसान पहुंचा है। वहीं ठियोग तहसील और नारकंड़ा में भी बगीचों को भारी क्षति हुई है और तहसील के बहुत से गावों में बगीचों में बड़ी मात्रा में बर्फ के कारण पेड़ टुट गए है।

वहीं इस समस्या से मुख्यमंत्री और बागवानी मंत्री को अवगत करवाने के लिए और बागवानों को राहत दिलवाने के लिए जुब्बल कोटखाई के विधायक रोहित ठाकुर मुख्यमंत्री और बागवानी मंत्री से मिले और उन्हें पूरी स्थित से अवगत करवाने के साथ ही राहत मनुअल में परिवर्तन करने और बीमा योजना में बर्फ से नुकसान को जोड़ने का भी अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने बर्फबारी के कारण बागवानों को हुए नुकसान का आकंलन करने के निर्देश दे दिए है।

Source:Dainik Bhaskar

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

NO COMMENTS