Connect with us

Featured

भाजपा अध्यक्ष सत्ती के प्रचार पर बैन नहीं लगा तो हर जगह किया जायेगा घेराव,दिखाए जाएंगे काले झंडे:सुखविंदर सुक्खू

Ban bjp president Satpal Satti's Election rallies

शिमला– कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी को लेकर आपत्तिजनक भाषा के इस्तेमाल को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती घिर गए हैं। बद्दी में आपत्तिजनक भाषा के इस्तेमाल के लिए चुनाव आयोग से नोटिस मिलने के बाद भाजपा के राज्य अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती अब दुबारा राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणियां करने की वजह से चुनाव आयोग के निशाने पर आ गए हैं। आयोग ने सत्ती को एक और नोटिस ज़ारी कर 48 घंटों में जवाब माँगा है।

भाजपा के लिए चिंता की बात ये है कि इस बार यह मामला किसी की शिकायत पर सामने नहीं आया। बल्कि आयोग की सरवेलिएन्स (surveillance) टीम ने खुद ऊना जिले के गगरेट विधानसभा के भंजाल में सत्ती की एक सभा की वीडियो रिकॉर्डिंग की जिसके आधार पर उन्हें दूसरा नोटिस भेजा गया है। इस बार सत्ती पर प्रियंका के पहनावे व राहुल के शादी न करने को लेकर आपत्तिजनक बयानबाज़ी करने का आरोप है।

इसके अलावा सत्ती पर इस बयानबाज़ी को लेकर एक एफआईआर भी दर्ज़ हो चुकी है।

कांग्रेस ने वीरवार को उनके खिलाफ आंदोलन का एलान किया है! वीरवार को सुखविंदर सुक्खू की अध्यक्षता में कांग्रेस का एक प्रतिनिमण्डल मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार से मिला।

इन्होंने देवेश कुमार के माध्यम से मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को ज्ञापन भेजा। जिसमें सत्ती के प्रचार पर बैन लगाने और उन पर कड़ी धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कराने की मांग की गई है। सुक्खू ने अल्टीमेटम दिया है कि अगर सत्ती के प्रचार पर बैन नहीं लगाया गया तो शुक्रवार से सत्ती का हर जगह घेराव किया जाएगा व काले झंडे दिखाए जाएंगे।

सुक्खू ने कहा कि मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा उनकी मांग पर तत्काल कार्रवाई करें। चूंकि, सत्तारूढ़ भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती सभी मर्यादाएं तोड़ते हुए चुनावी जनसभाओं में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं व सामाजिक संस्थाओं के खिलाफ जहर उगल रहे हैं।

सुक्खू ने कहा कि ताजा उदाहरण भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती की सोलन जिले के बद्दी व ऊना जिले के भंजाल में हुई चुनावी जनसभा है। सूक्खू ने कहा है कि सतपाल सत्ती ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के विरुद्ध न केवल अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया, बल्कि सामाजिक संस्था राधा स्वामी के अनुयायियों पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी की।

बद्दी के ही रामशहर में सतपाल सत्ती कि एक वीडियो में वे आरोपण ये कहते सुनाई दिए थे कि “राजनीति बहुत टफ है। बहुत पैसे लगते हैं, घर बिक जाते हैं। चुनाव के दिनों में वो लोग जो राधा स्वामी होते हैं, वे भी कहते हैं कि कुछ दे दो तो ही ठीक है।”

सुक्खू ने कहा कि भाजपा नेता ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पहनावे को लेकर भी बेहुदा टिप्पणियां कर रहे हैं। ये नाकाबिले बर्दास्त है। सुक्खू ने कहा कि इस तरह की बदजुबानी से कांग्रेस जनों के साथ ही आम जनमानस की भावनाएं भी आहत हुई हैं। इसलिए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती पर चुनाव आयोग कड़ी कार्रवाई करे। क्योंकि, उन्होंने आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है।

सत्ती की सफाई

सत्ती का कहना है कि उनके वीडियो और बयां को तोड़ मरोड़ के मीडिया में पेश किया जा रहा है। उनका मानना है कि वो तो सिर्फ एक फेसबुक कमेंट पढ़ रहे थे जो किसी और ने राहुल गाँधी के ऊपर किया था। भाजपा भी राहुल गाँधी के चुनाव प्रचार पर रोक लगाने हेतु चुनाव आयोग को अपनी शिकायत दे चुके हैं।

निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार से मिलने वाले परदिनिधि मंडल में पूर्व सीपीएस रोहित ठाकुर, प्रदेश महासचिव हरभजन सिंह भज्जी, चेयरमैन मीडिया समन्वय समिति नरेश चौहान, प्रदेश उपाध्यक्ष महेंद्र चौहान, प्रदेश सचिव रितेश कपरेट, शिमला शहरी कांग्रेस अध्यक्ष अरुण शर्मा, कांग्रेस लीगल सेल के चेयरमैन आईएन मेहता, एससी सेल के वाईस चेयरमैन सुरेंद्र गर्ग, अमरजीत सिंह, अनूप रत्न व राजेन्द्र शर्मा शामिल थे।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Featured

सेब के सर्मथन मुल्य में मात्र 50 पैसे बढ़ौतरी बागवानों से भद्दा मजाकः राठौर

Apple proccurement support price in Himachal PRadesh

शिमला -हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा सेब के सर्मथन मुल्य में की गई मात्र 50 पैसे की बढ़ौतरी को बागवानों के साथ किया गया भद्दा मजाक करार दिया है।

आज शिमला से जारी प्रेस वयान में कुलदीप सिंह राठौर ने बताया कि वर्तमान समय में जब बागवानों को अपनी फसल तैयार करने के लिए भारी मंहगाई का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि जी.एस.टी के चलते सेब से संबंधित पैकिंग से लेकर फफूंद नाशक दवाईयां एवं अपनी फसलों को मंण्ड़ियों तक पहुॅचाने के लिए किराया भी कई गुणा बढ़ गया है इसके चलते सेब के सर्मथन मुल्य कम से कम 10 रूपये होना चाहिए।

कुलदीप राठौर ने कहा कि सेब इलाकों में बहुत जगह सड़कों की हालत खराब पड़ी है और सेब को मण्ड़ियों तक पहुॅचाने वाले ट्रक व गाड़ियों के मालिक खराव सडकों पर गाडियाॅं भेजने को मना कर रहे हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि ख़राब सडकों को जल्दी से जल्दी ठीक करवायें।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Featured

हिमाचल सरकार पुनर्विचार कर कर्मचारी हित में प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बहाल करे : कर्मचारी नेता

HP-SAT-abolition-reasons

शिमला -हिमाचल प्रदेश कर्मचारी महासंघ के पूर्व अध्यक्ष सुरेन्द्र मनकोटिया, पूर्व सयुक्त सचिव सेन राम नेगी,पूर्व प्रेस सचिव हरीश गुलेरिया, गैर शिक्षक महासंघ के महासचिव दीप राम शर्मा ,इंदिरागांधी आयुर्विज्ञान मेडिकल कॉलेज के पूर्व महासचिव आत्मा राम शर्मा ने प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बंद करने के निर्णय की आलोचना करते हुए इसे कर्मचारी विरोधी बताया है।

कर्मचारी नेताओं का कहना है कि जब जब प्रदेश में भाजपा सरकार सत्ता में आई तब तब प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बंद किया गया,जो कि कर्मचारियों के साथ अन्याय है।

कर्मचारी नेताओं ने जयराम सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि भाजपा कभी भी कर्मचारी हितेषी नही रही है।पूर्व में धूमल सरकार ने भी सत्ता में आते ही इसे बंद किया था अब बर्तमान में जयराम सरकार ने भी ऐसा ही किया है।उनका कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रख कर इसे खोला था।इसे खोलने का एक ही उद्देश्य था कि जो सरकार के किसी भी गलत फैंसले को चुनौती देने के लिए स्वतंत्र था और उसे जल्द और सस्ता न्याय मिल जाता था।

नेताओं का कहना है कि अब ऐसा नही होगा।किसी भी कर्मचारी को न्याय के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाना होगा जहां पहले ही हजारों मामले सुनवाई के लिए लंबित पड़े है।

कर्मचारी नेताओं ने मुख्यमंत्री जयराम से आग्रह किया है कि वह इस मामले पर पुनर्विचार कर कर्मचारी हित में प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बहाल करे। इसे उन्हें अपनी किसी भी प्रतिष्ठा का प्रश्न नही बनना चाहिए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Featured

ऐबीवीपी ने यूजी परीक्षा परिणाम मे हो रही देरी और अनियमिताओं को लेकर किया कुलसचिव का घेराव

ABVP Protest

शिमला-वीरवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने यूजी (UG ) के परीक्षा परिणाम मे हो रही देरी और अनियमिताओं को लेकर कुलसचिव का घेराव किया व उनके आफिस के बाहर धरना-प्रदर्शन किया!

ABVP protest for ug results

विद्यार्थी परिषद ने निम्न मांगो को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन को कल शाम तक का समय दिया था:

  • यूजी 6th सेमेस्टर का पूरा परीक्षा परिणाम घोषित किया जाए! छात्रों के परीक्षा परिणामों में आ रही डबल स्टार की दिक्कत को शीघ्र ठीक किया जाए!
  • यूजी 2nd और 4th सेमेस्टर का री-आप्पीयर (Re-appear ) परीक्षा परिणाम शीघ्र घोषित किया जाए!
  •  एचपीयू काउंसलिंग में अपीयर छात्रों को अपने रिजल्ट ठीक कराने की तिथि को 20 जुलाई तक किया जाए!
  •  एचपीयू के अलावा दूसरे विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने वाले छात्रों को कॉन्फिडेंशियल रिजल्ट दिया जाए ताकि वह छात्र दूसरे विश्वविद्यालय में ऐडमिशन ले सकें!
  •  यूजी 3rd सेमेस्टर गणित के रिजल्ट को फिर से ईवैलुएट किया जाए!

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने कहा है कि विश्वविद्यालय प्रशासन की नाकामियों के कारण हिमाचल के हजारों छात्र हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय और देश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने से वंचित रह रहे है! विद्यार्थी परिषद ने कहा है कि अगर इन सभी मांगों को शीघ्र पूरा नहीं किया गया तो विद्यार्थी पर अपना आंदोलन विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ और तेज करेगी!

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Trending