Connect with us

Featured

युग की हत्या के आरोपी 14 दिन के न्यायिक हिरासत में, एक आरोपी ने की खुदकुशी की कोशिश

yug-murder-case

युग हत्या मामले में दो सप्ताह के भीतर चालान पेश किया जाएगा। इस संबंध में फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामला चले, सेशन जज से चालान पेश करने के साथ अपील की जाएगी।

शिमला- युग की हत्या के तीनों आरोपियों चंद्र शर्मा, तेजेद्र और विक्रांत बख्शी को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत मे भेज दिया है। शनिवार देर शाम उन्हें सीजेएम शिमला की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा गया। आरोपियों को न्यायालय में पेश करने के लिए पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी। पचास के करीब पुलिस जवानों को जिम्मा सौंपना पड़ा।

मासूम युग अपहरण और हत्या के मामले में सीआईडी 21 दिन के भीतर चालान पेश कर देगी। सीबीआई ने आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटा लिए हैं। एफएसएल से कई रिपोर्ट बाद में आएंगी, जिन्हें अनुपूरक चालान के तौर पर बाद में पेश किया जा सकता है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए सीआईडी चालान पेश करने के साथ ही अदालत में अर्जी दाखिल करेगी, जिसमें इस केस की सुनवाई हर रोज हो सके।

पढ़ें: लापता युग का कंकाल 2 साल बाद भराड़ी के पास पानी के टैंक से बरामद

उधर सीआईडी की पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि चार वर्षीय मासूम को भूखा रखा जाता था। उसे बिना पानी के ही शराब जबरदस्ती पिलाई जाती थी। उसे मदहोश और बेहोशी की हालत में रखने के लिए शराब दी जाती थी।

पढ़ें: युग हत्याकांड में चौकानें वाले खुलासे, नगर निगम और शिमला पुलिस की भी खुली पोल

आरोपी चंद्र शर्मा ने युग की हत्या के बाद उसके ही रिश्तेदारों के यहां पुलिस और सीआइडी से छापे डलवाए। इस दौरान करीब 611 लोगों से पूछताछ की गई। यह सभी युग के रिश्तेदार थे। यह भी खुलासा हुआ है कि ऐसा चंद्र ने इसलिए किया, जिससे विनोद और उसके रिश्तेदार इकट्ठे न हो सके और अपहरण और हत्या का मामला दफन हो जाए।

युग की हत्या के आरोपी ने की खुदकुशी की कोशिश

शिमला के बहुचर्चित चार वर्षीय बच्चे युग की निर्दयता से हत्या करने वाले तीन आरोपियों में से एक तेजेद्र पाल सिंह ने थाने मे आत्महत्या का प्रयास किया। वह थाने की कोठरी में था और उसने कंबल से फंदा लगाने का प्रयास कर रहा था। हालांकि इसमें वह सफल नहीं हो पाया। सीआइडी ने युग की हत्या के मामले में तीन आरोपियों चंद्र शर्मा, तेजेद्र सिंह और विक्रांत बख्शी को गिरफ्तार किया है। सूत्रों के अनुसार तीनों आरोपियो को थाना ढली, थाना सदर और थाना बालूगंज मे रखा गया। शनिवार को न्यायालय मे पेश करने से पूर्व शुक्रवार की रात को तेजेद्र ने सैल मे आत्महत्या करने का प्रयास किया।

पढ़ें: बिलखते युग का वीडियो और कई फोटो हत्या के आरोपी विक्रांत के मोबाइल फोन से बरामद, हाई प्रोफाइल कनेक्शन होने के कारण पुलिस भी हाथ डालने से बचती रही

थाने में मौजूद पुलिस अधिकारियो ने उसे ऐसा करते देख लिया और तुरंत उससे कंबल छीन लिया। शनिवार को उन्हे सीजेएम की अदालत ने न्यायिक हिरासत मे भेजा दिया। जिला कोर्ट मे पेश करने से पहले तेजेद्र सहित अन्य आरोपियो को आक्रोशित लोगों ने लात और घूसो से पीट दिया था। वहीं देर शाम जब उन्हें कोर्ट ले जाया गया तो उस गाड़ी पर भी पथराव किया गया।

पढ़ें:शिमला निगम के टैंक में नहीं मिला कोई अवशेष, बीजेपी, कांग्रेस कर रही ओछी राजनीति: मेयर संजय चौहान का आरोप

फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा युग की हत्या का मामला

मासूम युग की निर्मम हत्या के मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करवाई जाएगी। इस संबंध में प्रदेश सरकार ने निर्देश जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निर्देशों के तहत सीआइडी शिमला के सेशन जज से अपील करेगी और इसके लिए याचिका दायर की जाएगी। फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई करवाने के लिए युग के परिजन राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से गुहार लगा चुके हैं। इस संबंध में राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने भी फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई का आश्वासन दिया था।

पढ़ें: अगर पिछले 2 साल मे शिमला निगम ने टेंक की सफाई की तब क्यों नहीं मिला युग का शव? : सुंदरियाल

युग हत्याकांड को लेकर अगले दो सप्ताह के भीतर चालान पेश किया जाएगा। सीआईडी ने मामले को जल्द से जल्द अंत तक पहुंचाने के लिए प्रयासों को तेज कर दिया है। इस संबंध में जांच अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं ताकि दो सप्ताह के भीतर चालान पेश किया जा सके। सीआइडी बारीकी से साक्ष्यों का आकलन कर रही है।

पढ़ें: सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने की विफलता के लिए हिमाचल प्रदेश विधानसभा में शिमला एम सी के विघटन की मांग

अभी इस मामले में केलस्टन के पानी के टैंक और उसके बाहर से बरामद की गई खोपड़ी और हड्डियों की फोरेंसिक रिपोर्ट आनी है। इसके साथ ही अभी डीएनए रिपोर्ट का भी इंतजार है। इस रिपोर्ट के आधार पर युग की हड्डियों के होने का साक्ष्य उपलब्ध होगा।

ऐसे पकड़ में आए थे आरोपी 

नार्को टेस्ट के दौरान गुप्ता परिवार का नौकर बार-बार चंद्र शर्मा का नाम ले रहा था। सीआईडी को संदेह हो गया। न्यू शिमला चोरी मामले में जब तीनों आरोपियों का नाम सामने आया तो शक यकीन में बदल गया। तीनों के मोबाइल खंगाले गए। इस बीच विक्रांत बख्शी के मोबाइल से युग की एक क्लिप और फोटो बरामद हुए।

इसके बाद तेजिंद्र और चंद्र शर्मा को गिरफ्तार किया गया लेकिन इन्हें जमानत मिल गई। सीआईडी ने विक्रांत पर शिकंजा कसा तो उसने सारी बात बता दी। इसके बाद एक बार फिर तेजिंद्र और चंद्र को हिरासत में लिया गया। बाद में सीआईडी ने क्लस्टन टैंक के अंदर और बाहर से युग के अवशेष बरामद कर इस केस को सुलझा दिया।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Featured

सेब के सर्मथन मुल्य में मात्र 50 पैसे बढ़ौतरी बागवानों से भद्दा मजाकः राठौर

Apple proccurement support price in Himachal PRadesh

शिमला -हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा सेब के सर्मथन मुल्य में की गई मात्र 50 पैसे की बढ़ौतरी को बागवानों के साथ किया गया भद्दा मजाक करार दिया है।

आज शिमला से जारी प्रेस वयान में कुलदीप सिंह राठौर ने बताया कि वर्तमान समय में जब बागवानों को अपनी फसल तैयार करने के लिए भारी मंहगाई का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि जी.एस.टी के चलते सेब से संबंधित पैकिंग से लेकर फफूंद नाशक दवाईयां एवं अपनी फसलों को मंण्ड़ियों तक पहुॅचाने के लिए किराया भी कई गुणा बढ़ गया है इसके चलते सेब के सर्मथन मुल्य कम से कम 10 रूपये होना चाहिए।

कुलदीप राठौर ने कहा कि सेब इलाकों में बहुत जगह सड़कों की हालत खराब पड़ी है और सेब को मण्ड़ियों तक पहुॅचाने वाले ट्रक व गाड़ियों के मालिक खराव सडकों पर गाडियाॅं भेजने को मना कर रहे हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि ख़राब सडकों को जल्दी से जल्दी ठीक करवायें।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Featured

हिमाचल सरकार पुनर्विचार कर कर्मचारी हित में प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बहाल करे : कर्मचारी नेता

HP-SAT-abolition-reasons

शिमला -हिमाचल प्रदेश कर्मचारी महासंघ के पूर्व अध्यक्ष सुरेन्द्र मनकोटिया, पूर्व सयुक्त सचिव सेन राम नेगी,पूर्व प्रेस सचिव हरीश गुलेरिया, गैर शिक्षक महासंघ के महासचिव दीप राम शर्मा ,इंदिरागांधी आयुर्विज्ञान मेडिकल कॉलेज के पूर्व महासचिव आत्मा राम शर्मा ने प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बंद करने के निर्णय की आलोचना करते हुए इसे कर्मचारी विरोधी बताया है।

कर्मचारी नेताओं का कहना है कि जब जब प्रदेश में भाजपा सरकार सत्ता में आई तब तब प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बंद किया गया,जो कि कर्मचारियों के साथ अन्याय है।

कर्मचारी नेताओं ने जयराम सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि भाजपा कभी भी कर्मचारी हितेषी नही रही है।पूर्व में धूमल सरकार ने भी सत्ता में आते ही इसे बंद किया था अब बर्तमान में जयराम सरकार ने भी ऐसा ही किया है।उनका कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रख कर इसे खोला था।इसे खोलने का एक ही उद्देश्य था कि जो सरकार के किसी भी गलत फैंसले को चुनौती देने के लिए स्वतंत्र था और उसे जल्द और सस्ता न्याय मिल जाता था।

नेताओं का कहना है कि अब ऐसा नही होगा।किसी भी कर्मचारी को न्याय के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाना होगा जहां पहले ही हजारों मामले सुनवाई के लिए लंबित पड़े है।

कर्मचारी नेताओं ने मुख्यमंत्री जयराम से आग्रह किया है कि वह इस मामले पर पुनर्विचार कर कर्मचारी हित में प्रशसनिक ट्रिब्यूनल को बहाल करे। इसे उन्हें अपनी किसी भी प्रतिष्ठा का प्रश्न नही बनना चाहिए।

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Featured

ऐबीवीपी ने यूजी परीक्षा परिणाम मे हो रही देरी और अनियमिताओं को लेकर किया कुलसचिव का घेराव

ABVP Protest

शिमला-वीरवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने यूजी (UG ) के परीक्षा परिणाम मे हो रही देरी और अनियमिताओं को लेकर कुलसचिव का घेराव किया व उनके आफिस के बाहर धरना-प्रदर्शन किया!

ABVP protest for ug results

विद्यार्थी परिषद ने निम्न मांगो को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन को कल शाम तक का समय दिया था:

  • यूजी 6th सेमेस्टर का पूरा परीक्षा परिणाम घोषित किया जाए! छात्रों के परीक्षा परिणामों में आ रही डबल स्टार की दिक्कत को शीघ्र ठीक किया जाए!
  • यूजी 2nd और 4th सेमेस्टर का री-आप्पीयर (Re-appear ) परीक्षा परिणाम शीघ्र घोषित किया जाए!
  •  एचपीयू काउंसलिंग में अपीयर छात्रों को अपने रिजल्ट ठीक कराने की तिथि को 20 जुलाई तक किया जाए!
  •  एचपीयू के अलावा दूसरे विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने वाले छात्रों को कॉन्फिडेंशियल रिजल्ट दिया जाए ताकि वह छात्र दूसरे विश्वविद्यालय में ऐडमिशन ले सकें!
  •  यूजी 3rd सेमेस्टर गणित के रिजल्ट को फिर से ईवैलुएट किया जाए!

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई ने कहा है कि विश्वविद्यालय प्रशासन की नाकामियों के कारण हिमाचल के हजारों छात्र हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय और देश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने से वंचित रह रहे है! विद्यार्थी परिषद ने कहा है कि अगर इन सभी मांगों को शीघ्र पूरा नहीं किया गया तो विद्यार्थी पर अपना आंदोलन विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ और तेज करेगी!

हिमाचल वॉचर हिंदी के एंड्रायड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Continue Reading

Trending